SDO क्या होता है , SDO कैसे बने – Full Information In Hindi 

SDO एक सरकारी जॉब होती है, ये  विश्वास पात्र तथा जिम्मेदार  कर्मचारी होते है , SDO की भर्ती अलग -अलग विभागों के लिए अलग -अलग होती है जैसे कोई बिजली विभाग का SDO कोई तकनीकी विभाग का SDO नियुक्त होता है , हालांकि ये एक सरकारी पोस्ट है तो बहुत से बिद्यार्थी इस पोस्ट को पाने के इच्छुक होंगे.

अगरआप भी उनमे ही है या आपका भी सपना एक SDO बनने का है या  SDO से जुडी हर जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो ये हमारी यह पोस्ट  आपकी मदद कर सकती है इसमें हमने SDO से जुडी हर छोटी-बड़ी जानकारी से आपको अवगत  कराया है, जैसे SEO क्या है, इनका क्या काम होता है, SDO की मासिक सैलरी कितनी होती  है , तथा अगर हम SDO बनना है तोह उसके लिएआवश्यक शिक्षा है, आपकी कितनी होनी चाहिए  etc. हमने इस आर्टिकल में बताई है .

अतः SDO बनने के लिए या SDO के बारे में जानने के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़ें, जिससे आपके मन  में SDO को लेकर जो भी डाउट हो वो क्लियर हो जाये तथा आप अपने सुनहरे सपने को पूरा कर सके. चलिए  Start करते है आज का आर्टिकल SDO क्या होता है,  SDO कैसे बने – Full Information In Hindi 

SDO का पूरा नाम (Full Name of SDO)

SEO का पूरा नाम होता है Sub Divisional Officer ( सब डिविजनल ऑफिसर ) , हिंदी में इसे उप विभागीय अधिकारी के नाम से जाना जाता है .

SDO का कार्य( Duties of SDO)

ये अपने विभाग के सबसे उच्च अधिकारी होते है  विभाग के प्रति  सर्कार द्वारा मांगे गए सवालों के प्रति उत्तरदायी होते है चाहे ये किसी भी विभाग से जुड़े हो,  बिजली विभाग तकनिकी  विभाग या अन्य  कोई।  जिले का भी अपना एक SDO होता हो जो जिले की सारी जानकारी सरकार  को देता है जिले  के विकास, न्याय व्यवस्था, रख -रखाव इत्यादि की जिम्मेदारी SDO की ही होती है. 

SDO का चयन  राज्य सर्कार द्वारा किया जाता है इसके लिए सरकार हर साल एक परीक्षा आयोजित करती है जिसमें आवेदन करके अभ्यर्थी SDO की परीक्षा पास करके SDO बन जाते है. इसके बारे में हम आपको आगे इसी आर्टिकल में बताएंगे।

SDO के लिए आवश्यक शैक्षिक योग्यता ( Required Qualification for SDO)

अगर आप भी SDO बनना चाहते तो आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना आवश्यक है अतः आपको  किसी मान्यता प्राप्त विद्यालय से Graduation की डिग्री प्राप्त करनी पड़ेगी, तभी आप SDO के लिए आयोजित परीक्षा में बैठ सकते  है .

Also Read: BHMS क्या होता है कैसे करें? Full Information In Hindi

आवेदक के लिए निर्धारित उम्र Required Age for SDO) 

SDO  के लिए निर्धारित परीक्षा में बैठने लिए  विभिन्न वर्गों केलिए अलग -अलग उम्र निर्धारित है जो निम्न  है –

  • सामान्य वर्ग वाले अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम उम्र 21 वर्ष तथा अधिकतम उम्र 30 वर्ष निर्धारित है  .
  • अगर आप OBC वर्ग केहै तो आपको उम्र में तीन वर्ष  छूट मिलती है
  • अगर अभ्यर्थी SC /SC से सम्बंधित है तोह उसे उम्र  में  5 वर्ष की छूट मिलती है.

    SDO के  लिए  आयोजित  की  जाने वाली परीक्षाएं(Exam Pattern) 

    SDO का कार्य राज्य सरकार देखती है, अतः इसकी नियुक्ति तथा परीक्षा राज्य  सरकार द्वारा ही निर्धारित की गयी होती है. ये परीक्षाएं हर साल आयोजित की जाती है. आइये जानते है,ये परीक्षाएं कितने भागो में कराई जाती है: 

    SDO की परीक्षाएं 2 चरणों  में  पूरी  होती है  –

  • प्रारंभिक  परीक्षा
  • मुख्य परीक्षा 
  1. प्रारंभिक  परीक्षा : जब आप SDO के  लिए आवेदन  करते है तो आपको सबसे  पहले जिस परीक्षा का  सामना करना  होता है  वो होती है  प्रारंभिक  परीक्षा  जिसे  हम preliminary exam भी कहते है। इसके अंतर्गत आपसे गणित, सामान्य ज्ञान , तर्कशक्ति या reasoning से संबंधित वैकल्पिक  प्रश्न   पूछे जाते  है।
  2. मुख्य परीक्षा :ये SDO के लिए निर्धारित दूसरी परीक्षा होती है ,इसमें  केवल वही विद्यार्थी सम्मिलित हो सकते है जिन्होंने प्रारंभिक  परीक्षा  उत्तीर्ण कर ली हो। अगर उम्मीदवार इसमें सफल हो जाता है तो उसे interview के   लिए  बुलाया  जाता है जो सबसे आखिरी चयन प्रक्रिया होती है।  इसमें सफल होने के बाद आपको  नौकरी दे दी जाती है .

SDO कैसे बने 

यह हमारा आज का मुख्य और सबसे महत्वपूर्ण टॉपिक है की SDO कैसे बने , हमने ये तो जान लिया की SDO क्या होता है और इनका कार्य क्या होता है, अब हम आपको बताएंगे की  SDO  कैसे बने ?

स्टूडेंट्स SDO राज्य सरकार द्वारा दी गयी एक सरकारी नौकरी है , जो आपने जिले तथा अपने विभाग से जुडी हर छोटी-बड़ी जानकारी सरकार  तक पहुंचाते है, सरकार द्वारा मांगे गए  सवालों के प्रति  उत्तरदायी होना ही इनका  प्रमुख कार्य है . आज कल सरकारी नौकरी की मांग तेज़ी से बढ़ी है. हर स्टूडेंट चाहता है की उसे सरकारी नौकरी मिले इसलिए सरकारी नौकरी का कम्पटीशन बहुत कठिन हो गया है.

अगर आप SDO बनना चाहते हैतो  आपको 12TH से ही मेहनत शुरू करदेनी चाहिए , क्युकी आप जितनी जल्दी तयारी शुरू कर देंगे, आपको उस विषय की उतनी ही अच्छी नॉलेज होगी और कॉन्फिडेंस बढ़ जायेगा जिससे आप आपकी परीक्षा में सफल हो सकते है .

ग्रेजुएशन करे 

आपको हमने बताया की SDO की परीक्षा में आवेदन करने के लिए आपको ग्रेजुएट होना पड़ेगा अतः आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना चाहिए .अतः आपको मान्यता प्राप्त  कॉलेज से ग्रेजुएशन क्लियर करना होगा .

आवदेन करें

अगर  आपने ग्रेजुएशन कम्प्लीट  कर लिया है तोह आपकी शैक्षिक योग्यता पूरी है SDO में apply करने के लिए  आपको पता रहना चाहिए है की कब आवेदन की तिथि कब जारी होती है और पता कर के आपको आवेदन करना  है .

एग्जाम दें 

ऊपर दिए गए सभी प्रोसेस को पूरा करने के बाद अभ्यर्थी को एग्जाम के लिए तैयार होना चाहिए. आपको प्रारंभिक तथा मुख्य परीक्षा देनी होगी तथा इसमें  सफल होना होगा तब आप को अगले  प्रोसेस केलिए चयनित  किया जा सकेगा.

इंटरव्यू दें 

आप मुख्य परीक्षा पास कर लेंगे तो आपको  Interview के लिए बुलाया जायेगा जो की लास्ट प्रक्रिया है  SDO बनने की।अगर आप इसमें सफल हो जायेंगे तो SDO का कार्य भार आपको  सौप दिया जायेगा.   

क्या SDM और SDO एक ही होता है?

बहुत से विद्यार्थियों के मन में सवाल होता है की क्या SDO और SDM दोनों एक ही पोस्ट है , तो ऐसा नहीं है  SDO और SDM दो अलग अलग सरकारी पोस्ट होते  है जिसमें कुछ खास अंतर निम्न है टेबल पर ध्यान दें :

SDO SDM
SDO का  पूरा नाम Sub Divisional Officer  होता है. SDM का पूरा नाम Sub Divisional Magistrate होता है . 
एक  जिले में कई SDO नियुक्त होते हैं. एक जिले में SDM  एक  ही होता है.
 SDO केवल एक विभाग के प्रति उत्तरदायी होता है . SDM पुरे जिले के प्रति उत्तरदायी होता है .

निष्कर्ष

SDO क्या होता है , SDO कैसे बने – Full Information In Hindi, इसका काम  क्या  होता  है ? से जुडी सारी जानकारी आपको  Article में  दी है अगर आपको इस विषय से जुड़ा कोई भी सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट करके जरूर बताएं। अगर आपको हमारी जानकारी उपयोगी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों से भी शेयर करें। 

Leave a Comment