प्रोग्रामिंग क्या है? प्रोग्रामिंग कैसे करें- Full Information In Hindi

जैसा की हम सभी जानते है की आज कल सरे काम इंटरनेट से माध्यम से किये जा रहे हैं एक पिन से लेकर प्लेन तक सभी दुकानें आज इंटरनेट की सुविधा का फायदा उठा रहीं है। ऐसे में जहा स्टूडेंट की रूखी कंप्यूटर शिक्षा और इंटरनेट माध्यम में बढ़ी है वही इस फील्ड में जॉब के स्कोप भी बढे है ,जहा स्कोप होते है वह कॉम्पिटिशन भी होता है, सभी स्टूडेंट एक दूसरे को पीछे कर के आगे कुछ नया करने की सोचते है वही कुछ स्टूडेंट्स तोह छोटी उम्र में ही मोबाइल एप निर्मित कर के अच्छा कमा लेते है ,हम सबके बिच में भी में कुछ ऐसे  लोग है जो एप इस्तेमाल करना छोड़ क्र एप बनाने में रूचि रखते है, आपको बता दे आपको इसमें थोड़ी लगन और म्हणत की जरुरत है अगर आप ये सिख लेते है तो आप भी ऐसा कर पाएंगे। 

क्या आप जानते है आपको ये सब सिखने जैसे एप बनाना या सॉफ्टवेयर बनाना सिखने के लिए आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में जानकारी होनी चाहिए, इसके लिए आपको पहले ये जानना चाहिए की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होता क्या आइये जानते है प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या होता है। 

प्रोग्रामिंग क्या है? प्रोग्रामिंग कैसे करें ? 

ये इंसानो द्वारा बनाई गयी अर्थात कृत्रिम भाषा होती है जो हम कंप्यूटर में तथा अन्य मशीनों में भी प्रयोग करते है पर मुख्या रूप से हम लोग इसका अधिकतर प्रयोग कंप्यूटर में करते है. आप ये तो जानते होंगे की कंप्यूटर की एक अपनी अलग भाषा होती है, एक कंप्यूटर को हम जब कोई निर्देश देते है तब हमें सही रिसल्ट देने या आउटपुट देने के लिए हमारे निर्देशों को एक्सीक्यूट करता है तथा हमे आउटपुट देता है।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (Programming Language)

कंप्यूटर के प्रोग्राम को बनाने वाला सॉफ्टवेयर डेवलप करने वाला या ऐसे किसी यूजर को जो इसमें दक्ष हो उसे प्रोग्रामर कहते है. प्रोग्राम को आप दूसरी भाषा में कंप्यूटर में दिए गए निर्देशों के ग्रुप के नाम से भी जानते है ,जब आप कोई एप्प बनाना चाहते है या  कोई गेम बनाना चाहते है तो इसके लिए आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखनी होगी तभी आप वेब डेवलप्मेंट कर पाएंगे या कोई गेम अथवा सॉफ्टवेयर बना पाएंगे. प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कंप्यूटर की विशिस्ट भाषा है आइये जानते है इसकी जरुरत क्यों पड़ी।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की आवश्यकता 

आप ये तोह जानते ही होंगे की दुनिया में कई तरह के लोग है और साथ ही साथ कई भाषाएं यहाँ बोली जाती है. लेकिन जब बात करें कंप्यूटर की तो कंप्यूटर एक भाषा समझता है जो है प्रोग्रामिंग लैंग्वेज। 

हम कंप्यूटर के कार्यों के लिए आम बात चीत की भाषा का उपयोग नहीं कर सकते. प्रोग्रामिंग लैंग्वेज समझ सकता है. हम इंसानों में दिमाग हम शब्दों का चुनाव कर सकते है. कोई गलत वाक्य या भाषा को त्रुटिपूर्ण रूप से बोले तो उसे समझ सकते है लेकिन कंप्यूटर के पास दिमाग नहीं होता इसलिए दुनिया भर के कम्प्यूटरों को संचालित करने के लिए जो  Language अपनाई जाती है हम उसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहते है. जैसे दुनिया कई सारी भाषाएं बोली जाती वैसे ही प्रोग्रामिंग लैंग्वेज भी विकिपीडिया के अनुसार लगभग 700 होती है। 

Also read: इंडियन आर्मी क्या होता है? इंडियन आर्मी कैसे ज्वाइन करें

अलग अलग कार्यों के लिए अलग अलग भाषाएं निर्धारित है। लेकीन कई भाषाएं  जिनका बहुत  उपयोग होता है जैसे java, C ++, HTML ये कुछ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिनका आज कल बहुत उपयोग होता हो व्ही 700 लैंग्वेज में से कुछ ऐसी भाषाएँ भी है जिनका बहुत काम उपयोग किया जाता है या कभी कभी किया जाता है। 

प्रोग्रम्मिंग सीखने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

अगर आप प्रोग्रामिंग सीखना चाहते है तो सबसे ये ध्यान रखना होगा की आपका इंट्रेस्ट किस फील्ड में है, जैसे की- 

क्या आप सॉफ्टवेयर बनाना चाहते है क्या आप वेब डिजाइनिंग सिख के वेब डिज़ाइन करना चाहते है या खुद का गेम बनाना चाहते है अतः आपका जिस क्षेत्र में इंट्रेस्ट हो उसी में आपको लैंग्वेज का चुनाव करना चाहिए। 

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कितने प्रकार का  होता है

प्रोग्रामिंग भाषाओ के अंतर्गत जावा, C++, पाइथन इत्यादि भाषाएँ आती है। इनमें से कुछ प्रसिद्ध भाषाएं है जिनके बारे में हम आपको यहाँ बताएंगे और इनको सिख के आप अपना करियर इस फील्ड में करियर बना सकते है ,

पाइथन 

यह पुरे विश्व में सबसे अधिक पूछी जाने वाली या उपयोग की जाने वाली लैंग्वेज है. इसका उपयोग बड़ी बड़ी कम्पनिया जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम, गूगल करती है .अगर आप इसे सिख लेते है तो आपको सिखने में दिक्कत नहीं होगी क्युकी ये आसान लैंग्वेज है. इसका प्रयोग ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के रूप में किया जाता है. इसका उपयोग हम मशीन लर्निंग  जैसी चीज़ों को समझने में करते है। 

जावा 

ये भी प्रसिद्ध लैंग्वेजेज में से एक है इसको वो स्टूडेंट कर सकते है. गेम बनाना चाहते है या जो एप्प डेवलपमेंट के क्षेत्र में काम करना चाहते है ये भी एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। 

C++

ये भी एक जानी मानी प्रोग्रामिंग की भाषा है इसका उपयोग भी हम एप्प बनाने में और गेमिंग में करते है। इसके साथ साथ ऐसी ही कई और भाषाएँ है जो आप सिख सकते है अपनी रूचि केअनुसार।  

कैसे सीखें प्रोग्रामिंग?

हमने आपको इस पोस्ट में बताया है की आपको अपने रूखी के अनुसार लैंग्वेज का चयन करना होगा तथा इसे सीखना होगा आइये जानते है प्रोग्रामिंग कैसे सीखें ,

  • भाषा का चयन 

दोस्तों आप जिस भी फील्ड में रूचि रखते है, आप उससे जुडी भाषा का चयन करें क्युकी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के अंदर बहुत सी भाषाएं है .

  • भाषा सीखे 

अब आप अपनी चयन की गयी भाषाओँ का अच्छा ज्ञान प्राप्त करें क्युकी जब तक आपको किसी भाषा का अच्छा ज्ञान नहीं होगा आप कुछ नहीं क्र सकते है। 

  • डेली प्रैक्टिस 

अगर आप कोई काम कर रखें है तो आपको उसका अभ्यास भी करते रहना चाहिए। अगर आप कोई भाषा सिख रहें है तो आप अपने PC पर उसका उपयोग करके देख सकते है. इसके लिए आपको VS code इस्तेमाल करना ठीक रहेगा। 

  •  एक खास प्रोजेक्ट 

अगर आप उपर्युक्त प्रोसेस कर चुके है तो आपको भाषा का अच्छा ज्ञान हो चूका होगा.अतः अब आपको अपनी चयनित भाषा से जुड़ा एक प्रोजेक्ट बनाना है जिसपे आपको वर्क करना है और प्रोजेक्ट को संपन्न करना है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको प्रोग्रामिंग क्या होता है , प्रोग्रामिंग कैसे  सीखें  के बारे में पूरी जानकारी दी है. जिसकी मदद से आप प्रोग्रामिंग के बारे में जानकारी लिए होंगे. हम आशा करते है ये जानकारी आपको रोचक लगी होगी. अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट में अपना सवाल पूछ सकते है। 

Leave a Comment