Computer Engineer Kaise Bane In Hindi- Career, Jobs And Salary In India

Computer Engineer कैसे  बने? Computer engineer kaise bane. हम सभी का अपने जीवन में एक लक्ष्य होता है जिसको पाने के लिए हमें मेहनत और अच्छे पथ प्रदर्शक की आवश्यकता होती है और आज के जीवन में हर कोई स्टूडेंट डॉक्टर, इंजीनियर बनने का सपना देखता है, ज्यादातर अभिभावक भी यही चाहते है की उनका बच्चा इंजीनियर या डॉक्टर बने. यदि आज हम देखे तो हर जगह  या हर फील्ड में digitalization जरूरी हो चुका है।

बीते कुछ महीनों के बाद तो जैसे सारी दुनिया ही नेट पर निर्भर है। ऐसे में हर व्यक्ति  को इंटरनेट का ,कंप्यूटर का ज्ञान होना जरूरी है। छोटी से छोटी दुकानों से लेकर बड़ी बड़ी कंपनियों का काम भी ऑनलाइन ही हो रहा है।

तो ऐसे में कई स्टूडेंट ये सोचते है की उन्हें कंप्यूटर इंजीनियर( computer engineer ) बनना चाहिए। या आपका शुरू से ही अच्छा कंप्यूटर इंजीनियर बनने का सपना रहा है तो आज का ये आर्टिकल आपके लिए खास होने वाला है। इसमें हम कंप्यूटर इंजीनियर(Computer Engineer) से जुडी हर चीज़ के बारे में विस्तार से बताएंगे, आप  इस आर्टिकल को पूरा पढ़े।

Computer engineer बनने के लिए आपको कंप्यूटर का अच्छा ज्ञान होना चाहिए .तभी आप एक श्रेष्ठ  कंप्यूटर इंजीनियर बन सकते है. आपको  सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का पूरा ज्ञान  होना चाहिए . इसके साथ साथ नेटवर्क डिज़ाइन, टेस्टिंग, सेटिंग इत्यादि के बारे में  भी जानकारी होनी चाहिए. आप 12th के बाद इस फील्ड में आगे कदम बढ़ा सकते है.

Computer Engineering क्या होती  है

 ये एक डिप्लोमा है, कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए आपको कंप्यूटर इंजीनियरिंग का कोर्स करना पड़ता है . जिसके अंतर्गत आपको कंप्यूटर के अनेको पार्ट्सके बारेमें, हार्डवेयर(माउस ,keyboard आदि),सॉफ्टवेयर, नेटवर्किंग, मोबाईल,ऑपरेटिंग सिस्टम, मदरबोर्ड इत्यादि पुर्जो को ठीक करने  जानकारियां दी जाती है जो आपके लिए उप्योगी होती है. और जिसको पढ़ने  और समझने के लिए  आपको computer  engineering का कोर्स करना जरुरी है . computer इंजीनियरिंग करने के बाद आप अपने कंप्यूटर इंजीनियर के करियर को आगे बढ़ा सकते है आप कंप्यूटर के फील्ड में डिप्लोमा करने के बाद आपके लिए सरकारी तथा प्राइवेट दोनों क्षेत्रो में जॉब लगने की संभावनाएं बढ़ जाती है .

Computer Engineer

कंप्यूटर Engineer  computer के शिकायतों को दूर करते है, इसके साथ साथ ये अपने द्वारा भी कुछ मॉडल तैयार करते है. आपको  कंप्यूटर के पार्ट्स का implementation  कार्य भी करना होगा।  इसके लिए आपको हार्ड वर्क  करना पड़ेगा  इसके बाद रोबोट की designing और इसकी setting  भी कंप्यूटर इंजीनियर ही करते है.

 कंप्यूटर के अलग अलग भागो की निर्माण की जिम्मेदारियां भी कंप्यूटर इंजीनियर के काम के ही  अंतर्गत आता  है.

कंप्यूटर इंजीनियरिंग दो  प्रकार की होती  है एक हार्डवेयर  और सॉफ्टवेयर आपको किसी भी एक पार्ट के बारे में अच्छे से जानकारी होनी चाहिए . जिसमें आपका इंटरेस्ट है हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर आप किसी भी एक फील्ड की अच्छी जानकारी हो।

यदि आप हार्डवेयर में इंटरेस्ट  रखते है तो आपको कंप्यूटर के हार्डवेयर पार्ट्स जैसे माउस, कीबोर्ड ,motherboard जैसी चीज़ो के बारे में अच्छे से पता होना चाहिए . अगर आप एक हार्डवेयर इंजीनियर (hardware engineer) बनते है तो आपको हार्डवेयर पार्ट की कमियों को दूर करने के साथ साथ हार्डवेयर की डिजाइनिंग और उसके मॉडल को डेवलप करना भी कंप्यूटर इंजीनियर का ही काम है।

यदि आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर(software इंजीनियर) बनने में  इंट्रेस्ट रखते है तो आपको कंप्यूटर  के सॉफ्टवेयर पार्ट्स  के बारे में अच्छे से जानकारी होनी जरूरी  है इसके  अंतर्गत आपको सॉफ्टवेयर विकसित करना उसे डिजाइन करना और उसकी  कमियों को दूर करना सॉफ्टवेयर   इंजीनियरिंग  के अंतर्गत ही आता है .   

Also Read:MBA Kya Hai- MBA Ki Jankari In Hindi    

Computer Engineer बनने के लिए योग्यता 

Computer  के क्षेत्र में रुचि  तो सब रखते है पर इसके लक्ष्य को पा लेना हर किसी के बस की बात नहीं होती। क्युकी इसके लक्ष्य को पाने के लिए आपको कठिन परिश्रम की आवश्यकता पड़ेगी जो सभी  विद्यार्थियों के लिए  संभव नहीं हो पता इंजीनियर बनने का आपका लक्ष्य परिश्रम से भरा तो हो सकता है परन्तु नामुमकिन नहीं है . अब हम जानेंगे की कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए आवश्यक योग्यताएं क्या क्या है  

आपको  किसी भी  हाईप्रोफाइल जॉब के लिए इंटरमीडिएट  तक की पढाई वही रहती है पर किसी किसी जॉब के लिए आपको आपके इंटरमीडिएट में ली जाने वाली स्ट्रीम (साइंस,आर्ट्स या कॉमर्स)को भी ध्यान में रखना पड़ता है। जैसे की आप अपनी मन पसंद जॉब कंप्यूटर इंजीनियरिंग को ही देख लीजिये इसमें आपको इंटरमीडिएट साइंस स्ट्रीम से होनी चाहिए . आपको साइंस स्ट्रीम से मैथ लेकर इंटरमीडिएट कम्पलीट करना होगा  जिसमें आपके कम से कम  60 % मार्क्स होने जरुरी है.

इसके बाद आपको  किसी अच्छे कॉलेज का एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना होगा .इसके लिए  जब आप  12th का एग्जाम दे रहे हो तभी ऑनलाइन आवेदन कर सकते  है जिसको क्लियर करने  के बाद आपको किसी अच्छे कॉलेज में admission मिलेगा  जितना अच्छा आप इंट्रेंस एग्जाम में प्रदर्शन करेंगे उतना ही अच्छा आपको कॉलेज दिया जायेगा आपके आंतरिक ज्ञान पर आपको मिलने वाला कॉलेज दिया जायेगा। 

अगर आप ये नहीं  समझ पा रहे हैं की आपको कौन सा एंट्रेंस एग्जाम देना होगा तो हम यहाँ कुछ एंट्रेंस एग्जाम का नाम बता रहे है जिनके लिए आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते है  जिससे आप अपने कंप्यूटर इंजीनियर बनने के सपने को पूरा कर  सके,कंप्यूटर इंजीनियरिंग के लिए  एंट्रेंस एग्जाम की लिस्ट,

  1. All India Engineering Entrance Exam
  2. BITSAT
  3. COMEDK  undergraduate entrance test 
  4. Delhi university combined entrance examination 
  5. EAMCET
  6. Goa Common Entrance Test  (CET)
  7. Indian Institute of Technology, Joint Entrance Exam(IITJEE)
  8. Kerala Law Entrance Examination  
  9. Orissa Joint Entrance  Exam 
  10. SRM University Engineering Entrance Exam 

जैसे ही आप एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करते है आपको आपके प्रदर्शन के अनुसार कॉलेज दिया जायेगा जितना बेहतर आपका प्रदर्शन होगा उतना ही बेहतर आपको कॉलेज दिया जायेगा। इस काउंसलिंग के बाद  आपका एडमिशन हो चूका होगा। अब आप एक स्टूडेंट होंगे कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग कोर्स के ये 4 साल का कोर्स होगा .

आपको ग्रेजुएशन के स्थान पर करना होगा .कंप्यूटर के फील्ड में और आगे जाने के लिए इसमें  निर्धारित पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स जैसे M.Tech  इत्यादि कर सकते है. ये कोर्स कंप्लीट करने के बाद आप एक कंप्यूटर इंजीनियर  बनने के योग्य हो चुके है.

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना की कंप्यूटर इंजीनियर कैसे बने? इसके अंतर्गत कौन  कौन से काम होते है . कौन कौन  से एंट्रेंस  एग्जाम होंगे कंप्यूटर इंजीनियरिंग के लिए . जैसे महत्वपूर्ण बिन्दुओ के बारे में  बताया है. उम्मीद है हमारी जानकारी आपके काम आएगी.

Leave a Comment